बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी: विराट कोहली की फॉर्म बनी भारतीय टीम के लिए टेंशन, 3 साल से शतको का सूखा

Border Gavaskar trophy: भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया के बीच बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी के शुरुआती तीन मैच हो चुके हैं। जिसमें भारतीय टीम के पास 2-1 की अजय बढ़त है। लेकिन तीसरे टेस्ट मैच की करारी हार के बाद भारतीय बल्लेबाजों की जमकर आलोचना हो रही है। सीरीज का चौथा मुकाबला 9 मार्च को अहमदाबाद में खेला जाएगा।

टीम इंडिया के स्टार बल्लेबाज विराट कोहली

Border Gavaskar trophy: भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया के बीच बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी के तीन टेस्ट मैच हो चुके हैं। जिसमें भारतीय टीम के पास 21 की अजय बढ़त है। इस सीरीज में भारतीय टीम स्पिन गेंदबाजी को मदद करने वाली पिच बना रही है। ऐसे में इंदौर टेस्ट में भारतीय टीम की हार के बाद भारतीय बल्लेबाजों की जमकर आलोचना हो रही है। लेकिन भारतीय बल्लेबाजी लेकिन भारतीय बल्लेबाजी के अनुभवी बल्लेबाज और खराब फॉर्म से गुजर रहे विराट कोहली आलोचकों के निशाने पर हैं। विराट कोहली की आलोचना इसलिए भी हो रही है। क्योंकि वहां टीम के सीनियर बल्लेबाज है। और उनकी खराब फॉर्म का खामियाजा टीम को उठाना पड़ रहा है। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज के चार टेस्ट मैचों में भी विराट कोहली का बल्ला खामोश रहा है। विराट कोहली ऑस्ट्रेलियाई स्पिन अटैक के सामने बेबस नजर आ रहे हैं। विराट कोहली के इस प्रदर्शन से भारतीय टीम प्रबंधन और उनके फैंस काफी चिंतित हैं। ऐसे में विराट कोहली से उम्मीद होगी। कि सीरीज के चौथे और आखिरी टेस्ट में वहां अपनी बल्लेबाजी से भारतीय टीम को टेस्ट मैच जिताए और बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी पर एक बार फिर भारतीय टीम का कब्जा हो।

2019 से शतक का इंतजार

Border Gavaskar trophy: भारतीय टीम के स्टार बल्लेबाज और रन मशीन विराट कोहली ने पिछला टेस्ट शतक बांग्लादेश के खिलाफ 2019 में ईडन गार्डंस में लगाया था। इस टेस्ट मैच में उन्होंने बेहतरीन बल्लेबाजी करते हुए 136 रनों की बेहतरीन पारी खेली थी। लेकिन उस शतक के बाद विराट कोहली शतक के लिए तरस रहे हैं। ऐसे में चौथे टेस्ट मैच में उनके फैंस को उम्मीद होगी कि विराट कोहली लंबे समय के बाद शतक लगाकर भारतीय टीम को जीत दिलाएं।

मर्फी और कुहेमन की फिरकी के आगे दिखे बेबस

Border Gavaskar trophy: पिछले तीन मैचों की टेस्ट सीरीज में विराट कोहली कंगारू स्पिनरों के सामने बेबस नजर आए हैं। ऑस्ट्रेलिया की तरफ से टॉड मर्फी और कुहेमन ने विराट कोहली को रन बनाने का मौका ही नहीं दिया है। हैरत की बात यह है कि दोनों कंगारू युवा स्पिनर पहली बार भारतीय सरजमीं पर टेस्ट क्रिकेट खेल रहे हैं। लेकिन विराट कोहली भारतीय सरजमीं पर कई टेस्ट मैच खेल चुके हैं। लेकिन फिर भी विराट कोहली समेत भारतीय बल्लेबाज दोनों स्पिनरों के सामने बेबस नजर आए हैं। मैचों की सीरीज में विराट कोहली को मर्फी ने तीन बार वही कुहेमन ने उन्हें दो बार पवेलियन की राह दिखाई है। कंगारुओं के खिलाफ बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी के तीन टेस्ट मैचों में विराट कोहली ने मात्र 111 रन बनाए हैं।

Read also :भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया तीसरा टेस्ट : ऑस्ट्रेलियाई फिरकी के आगे भारतीय बल्लेबाजी ढेर, 109 रन पर सिमटी पारी

समकालीन बल्लेबाज निकल गए हैं आगे

Border Gavaskar trophy: विराट कोहली काम 1 जनवरी 2021 से शीर्ष बल्लेबाजों की श्रेणी में सबसे खराब फॉर्म रहा है पिछले 2 साल में अंतरराष्ट्रीय टेस्ट क्रिकेट में नामी नामों का औसत विराट कोहली से कहीं बेहतर है अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के शीर्ष बल्लेबाज न्यूजीलैंड के केन विलियमसन पाकिस्तान के बाबर आजम ऑस्ट्रेलियाई टीम के स्टीव स्मिथ व इंग्लैंड के जो रूट जैसे दिग्गज बल्लेबाजों का औसत 50 के ऊपर का रहा है वहीं अगर बात विराट कोहली की करें तो इनका औसत पिछले 2 सालों में 26.82 का रहा है वही सभी बल्लेबाज ने इन 2 सालों की अवधि में कई शतक बनाए लेकिन विराट कोहली शतक बनाने के लिए जूझ रहे हैं।

Leave a comment